Friday, March 1, 2024
spot_imgspot_img

बीटेक छात्र के मौत की जांच करेगी एसआईटी, पिता के फोन पर आया था धमकी भरा मैसेज  

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

मध्य प्रदेश के भोपाल में बीटेक छात्र की मौत के मामले की जांच स्‍पेशल इंवेस्‍ट‍िगेशन टीम यानी एसआईटी ने बुधवार से शुरू कर दी है. भोपाल में बीटेक छात्र निशांक राठौर की रविवार शाम रेलवे ट्रैक पर लाश मिली थी. उसी वक्त न‍िशांक के ही मोबाइल से उसके पिता के मोबाइल पर धार्मिक आधार पर धमकी भरा मैसेज भेजा गया था. वहीं डॉक्टरों के पैनल ने एम्स अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया गया था, जिसमें रेल से कटने के कारण मृत्यु होना पाया गया था. इसलिए पुलिस इसे खुदकुशी का मामला मान रही थी. लेक‍िन न‍िशांक के प‍िता को म‍िले मैसेज के बाद इस मामले ने तूल पकड़ ल‍िया और मध्‍य प्रदेश सरकार ने इस मामले की एसआईटी से जांच के आदेश द‍िए

बीटेक छात्र निशांक राठौर ने भोपाल से नर्मदापुरम जाने वाले हाइवे पर भोपाल से क़रीब 44 किलोमीटर दूर एक पेट्रोल पंप पर 400 रुपये का पेट्रोल रविवार को शाम 5 बजकर 09 मिनट पर डलवाया. फोन पे से भुगतान किया, लेकिन इस पेट्रोल पंप से ठीक 6 किलोमीटर आगे रेलवे ट्रैक पर उसका शव मिला. जिस जगह पर शव मिला वो जगह भोपाल से 50 किलोमीटर दूर है. अब सवाल ये है कि 400 रुपये का पेट्रोल डलवाने के बाद निशांक महज़ 6 किलोमीटर क्यों चला? क्या उसका इरादा अपने गृहनगर सिवनी मालवा जाने का था जो बरखेड़ा के इस पेट्रोल पंप से करीब 100 किलोमीटर है. एसआईटी की जांच का ये अहम पहलू है.

निशांक राठौर की स्कूटी की चाबी गायब!

निशांक राठौर जिस स्कूटी से रेलवे ट्रैक तक पहुंचा था. उस स्कूटी की चाबी की पुलिस को तलाश है. निशांक अपनी टू व्हीलर को हाइवे वाली सड़क पर लॉक कर रेलवे ट्रैक पर पहुंचा था. पुलिस निशांक का शव मिलने के बाद स्कूटी का ताला तोड़कर उसे थाने लाई. पुलिस को घटनास्थल से स्कूटी की चाबी बरामद नहीं हुई. MP 04 UF 4729 नंबर वाली स्कूटी निशांक के नाम रजिस्टर नहीं है. दोस्तों ने पुलिस को बताया है कि वो किराये से स्कूटी लाया था. बड़ा सवाल ये है कि अगर निशांक ने खुदकुशी की थी तो फिर वो अपनी गाड़ी को लॉक करके सड़क पर छोड़कर क्यों गया?

क्‍या है पूरा केस

24 जुलाई की शाम को भोपाल के पास बरखेड़ा रेलवे स्टेशन के ट्रैक पर 21 साल के बीटेक छात्र निशांक राठौर की लाश मिली थी. इसके बाद घटना स्थल पर स्कूटी, मोबाइल और चप्पल म‍िली थी. उसी दिन शाम को पिता के पास वॉट्सऐप पर संदिग्ध मैसेज आया था, जिसकी वजह से छात्र की मौत एक रहस्य में बदल गई थी. मैसेज में लिखा था कि ‘ग़ुस्ताख़ ए नबी की एक ही सजा, सर तन से जुदा’, लेकिन पुलिस ये जांच कर रही है कि मैसेज किसने भेजा था. पुलिस फोन और डाटा का फॉरेंसिक एनालिसिस करा रही है. हालांकि छात्र के पिता इसे ख़ुदकुशी मानने को राजी नहीं हैं.

Latest Articles