Thursday, June 20, 2024

अग्निपथ योजना के विरोध में अधिकारी ने किया चौकाने वाला खुलासा, पूछताछ के बाद बताई बड़ी भूमिका

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

केंद्र की अग्निपथ योजना के खिलाफ बिहार समेत देशभर में चल रहे विरोध प्रदर्शन और हिंसक घटनाओं ने सरकार और प्रशासन की नींद उड़ा रखी है. इस बीच पटना के एक अधिकारी ने शनिवार को चौंका देने वाला खुलासा किया है. अधिकारी ने कहा कि शहर में हिंसा और आगजनी के आरोप में गिरफ्तार लोगों से पूछताछ के दौरान इन सब के पीछे कोचिंग सेंटरों की भूमिका सामने आई है.

इस योजना के विरोध में बिहार सहित देश के कुछ हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया है. गुरुवार को कम से कम तीन ट्रेनों में आग लगा दी गई. एएनआई से बात करते हुए पटना के जिलाधिकारी चंद्रशेखर सिंह ने कहा कि गिरफ्तार किए गए लोगों के फोन में भाड़काऊ व्हाट्सएप मैसेज मिले हैं.

उन्होंने कहा कि हम पूरी तरह अलर्ट पर हैं. वीडियो फुटेज के जरिए लोगों की पहचान की जा रही है. हमने गिरफ्तार किए गए लोगों के व्हाट्सएप मैसेजों के जरिए 7-8 कोचिंग सेंटरों की भूमिका के बारे में पता लगाया है. ये मैसेज भड़काऊ प्रकृति के थे. सिंह ने कहा कि 170 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी, जिनमें से 46 को दानापुर रेलवे स्टेशन पर तोड़फोड़ के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. डीएम ने कहा कि पटना में विभिन्न स्थानों पर सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है.

हालांकि, बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि स्थिति फिर से सामान्य हो रही है और प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील की. प्रसाद ने कहा कि स्थिति फिर से सामान्य हो रही है. तोड़फोड़ और आगजनी की घटनाएं दुर्भाग्यपूर्ण हैं. केंद्र ने युवाओं के लिए एक अच्छी योजना बनाई है, इससे उन्हें कई लाभ होंगे. हम बिहार के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हैं.

इस बीच, अखिल भारतीय छात्र संघ के नेतृत्व में बिहार में छात्र संगठनों ने सरकार द्वारा इस सप्ताह शुरू की गई सेना में नई भर्ती योजना को तत्काल वापस लेने की मांग करते हुए 24 घंटे के बिहार बंद का आह्वान किया है. राजद ने बंद के आह्वान को अपना समर्थन दिया है. इतना ही नहीं भाजपा के सहयोगी दल हिंदुस्तान आवाम मोर्चा-सेक्युलर (HAM-S) के अध्यक्ष व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांजी ने कहा कि उनकी पार्टी ने हिंसा का समर्थन नहीं किया, लेकिन वह बिहार बंद का समर्थन करेगी. युवाओं के हित में कदम उठाएं.

प्रदर्शनकारियों ने इससे पहले बिहार की उपमुख्यमंत्री रेणु देवी और बिहार भाजपा अध्यक्ष और पश्चिम चंपारण के सांसद संजय जायसवाल के घरों पर कथित तौर पर हमला किया था. बिहार में रेलवे यातायात भी अवरुद्ध कर दिया गया था और उत्तर प्रदेश, हरियाणा और तेलंगाना जैसे कई राज्यों में ट्रेन के डिब्बों को आग लगा दी गई थी. रेलवे द्वारा अब तक 200 से अधिक ट्रेनों को रद्द करने से ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुई हैं.

Latest Articles