Friday, March 1, 2024
spot_imgspot_img

सर्वे से भाजपा व कांग्रेस के नेताओं और प्रत्याशियों की बेचैनी बढ़ी

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

उत्तराखंड की पांचवीं विधानसभा के चुनाव के लिए हुए मतदान की जो तस्वीर सामने आ रही है, उसने प्रमुख राजनीतिक दलों भाजपा व कांग्रेस के नेताओं और प्रत्याशियों की बेचैनी बढ़ा दी है। यद्यपि, मतदान का आंकड़ा कमोबेश पिछले चुनाव के बराबर ही है, लेकिन बीते पांच दिनों के अंतराल में बूथ स्तर से मिले फीडबैक ने प्रत्याशियों और दलों के नेताओं में उलटफेर की आशंका भी गहराने लगी है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि मतदान के तत्काल बाद उत्साह से लबरेज प्रत्याशी और संगठन पदाधिकारी अपनी जीत सुनिश्चित होने का दावा कर रहे थे, अब उनके सुर में नरमी महसूस की जा रही है। यहां तक कि तमाम आशंकाओं को सामने रखकर वे एक तरह से अपने ही दावों पर प्रश्न उठाते दिख रहे हैं।

विधानसभा की सभी 70 सीटों के लिए 14 फरवरी को हुए मतदान में 65.37 प्रतिशत मतदाताओं ने मताधिकार का प्रयोग कर मैदान में डटे 632 प्रत्याशियों के भाग्य की पटकथा ईवीएम में बंद कर दी। मतदान को लेकर उत्साह मामूली अंतर के साथ पिछले चुनाव के बराबर ही रहा, जो चिंतित करने वाला नहीं है। मतदान के आंकड़ों को लेकर राजनीतिक दल उत्साहित दिखे। दोनों ही दल भाजपा व कांग्रेस मतदान के उनके पक्ष में होने और अपनी सरकार बनने के दावे भी करने लगे

Latest Articles