Thursday, June 20, 2024

केदारनाथ में आस्था का सैलाब: बाबा के दर पर 24 घंटे राैनक, पहली बार रातभर जयकारों से गूंज रहा पैदल मार्ग

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

भगवान आशुतोष के द्वादश ज्योतिर्लिंग में एक केदारनाथ की यात्रा में इस बार आस्था का सैलाब अपने चरम पर है। कपाटोद्घाटन से लेकर पहले सप्ताह में यात्रा कई रिकाॅर्ड बना चुकी है। वहीं, पहली बार यात्रा में गौरीकुंड-केदारनाथ पैदल मार्ग पर 24 घंटे आवाजाही हो रही है। दोनों तरफ से देर रात्रि तक श्रद्धालुओं का आवागमन बना हुआ है। स्थिति यह है कि आठ दिनों में ही पैदल मार्ग से 1.54 लाख से अधिक श्रद्धालु धाम पहुंच चुके हैं। समुद्रतल से 11,750 फीट की ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ धाम विषम भौगोलिक परिस्थितियों वाला क्षेत्र है। धाम को जोड़ने वाला पैदल मार्ग 16 किमी लंबा है, जिस पर कई जगहों पर तीखी चढ़ाई है। वहीं जैसे-जैसे श्रद्धालु इस रास्ते से धाम की तरफ बढ़ते हैं, ऑक्सीजन कम होती जाती है। यह श्रद्धालुओं के लिए सबसे बड़ी चुनौती होती है। इन सबके बाद भी बाबा के भक्तों का उल्लास और उत्साह अपने चरम पर है। स्थिति यह है कि दिनरात यात्रा संचालित हो रही है। पैदल मार्ग पर 24 घंटे यात्रियों का आवागमन हो रहा है। यात्री रात तीन बजे के बाद भी केदारनाथ से गौरीकुंड के लिए लौट रहे हैं और मध्य रात्रि के बाद पहुंच रहे हैं। गौरीकुंड से शाम छह बजे के बाद भी यात्री केदारनाथ के लिए रवाना हो रहे हैं। लखनऊ से सहेली के साथ दर्शनों को पहुंची प्रिया ने बताया, 15 मई को केदारनाथ धाम में बाबा केदार के दर्शन के बाद वह दोपहर 2.45 बजे गौरीकुंड के लिए रवाना हुईं और रात्रि 1.30 बजे गौरीकुंड़ पहुंचीं। इस दौरान लिनचोली, भीमबली और जंगलचट्टी में पुलिस के जवान तैनात मिले। कई जगहों पर मध्य रात्रि तक दुकानें खुली रहीं।

मध्य प्रदेश के प्रीतम अवस्थी, गाजियाबाद के अंकुर मौर्य ने बताया, वह आपदा के बाद तीसरी बार केदारनाथ पहुंचे हैं, लेकिन पहला मौका है, जब केदारनाथ की यात्रा पूरी रात चल रही है। बताया, 17 मई को शाम पांच बजे केदारनाथ से सोनप्रयाग के लिए निकले और रात्रि दो बजे गौरीकुंड पहुंचे। इधर, केदारनाथ धाम में कपाट खुलने के बाद आठ दिनों में दर्शनार्थियों का आंकड़ा 2.15 लाख से अधिक पहुंच गया है। इन दर्शनार्थियों में 1.54 लाख लोग पैदल मार्ग से धाम पहुंचे हैं, जबकि 1,851 श्रद्धालु डंडी-कंड़ी और 47,806 श्रद्धालु घोड़ा-खच्चर से केदारनाथ पहुंचे हैं। बाबा केदार की यात्रा में आठ दिनों में 10,070 श्रद्धालु हेलीकाॅप्टर से धाम पहुंच चुके हैं, जबकि 9,500 से अधिक श्रद्धालु दर्शन कर वापस लौटे हैं। इस बार केदारनाथ यात्रा में आठ हेली कंपनियों के नौ हेलीकाॅप्टर केदारघाटी के अलग-अलग हैलिपैड से धाम के लिए उड़ान भर रहे हैं। केदारनाथ में उमड़ रही भीड़ को देखते हुए श्रीबदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति द्वारा बाबा के भक्तों को सभामंडप से ही स्वयंभू लिंग के दर्शन कराए जा रहे हैं। यहां कपाट खुलने के बाद से प्रतिदिन औसतन 25 हजार से अधिक श्रद्धालु बाबा के दर्शनों को पहुंच रहे, जो यात्रा में नया रिकाॅर्ड है। बीकेटीसी के कार्याधिकारी रमेश चंद्र तिवारी ने बताया, सुबह चार बजे से धर्म दर्शन शुरू हो रहे हैं, जो अपराह्न तीन बजे तक चल रहे हैं। इसके बाद भगवान केदारनाथ को भोग लगाया जा रहा है, जिसके लिए लगभग 40 मिनट मंदिर को बंद रखा जा रहा है। साफ-सफाई के बाद पुन: 3.45 बजे से शाम सात बजे तक धर्म दर्शन कराए जा रहे हैं। इसके बाद सांयकालीन आरती के बाद श्रद्धालु बाबा के शृंगार दर्शन कर रहे हैं।

 

Latest Articles