Tuesday, April 23, 2024

उत्तरकाशी सिलक्यारा में फंसे मजदूरों का वीडियो आया सामने! वॉकी टॉकी से हुई बात,पीएम मोदी ने सीएम से फोन पर लिया फीडबैक

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

उत्तरकाशी सिलक्यारा टनल में फंसे मजदूरों का वीडियो और फोटो सामने आया है। टनल में फंसे 41 मजदूरों का पहली बार 10 दिन बाद वीडियो सामने आया है। बीती देर रात सिलक्यारा टनल में खाना, दवाइयों और ऑक्सीजन के लिए 6 इंच चौड़े 57 मीटर लंबा पाइप को डाला गया था। इसी पाइप से एक एंडोस्कोपिक कैमरा भी अंदर भेजा गया था जिससे आज सुबह पहला फुटेज सामने आया है। वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि सभी 41 मजदूरों की गिनती हुई है और सभी सुरक्षित और सही हालत में हैं। इन तस्वीरों के बाहर आने के बाद सभी को राहत मिली है। वीडियो में देखा जा सकता है कि सभी मजदूर कैमरे के आगे खड़े हुए हैं और उनको वाईफाई वॉकी-टॉकी के माध्यम से संपर्क भी किया गया है।

पहली बार टनल में फंसे मजदूरों की फोटो और वीडियो सामने आया है। मजदूरों से बातचीत भी की गई है। जिसमें मजदूरों ने बताया है कि उन्हें यहां से जल्दी निकाल लिया जाए। 10 दिन से यह मजदूर इसी सुरंग में फंसे हुए हैं। सोमवार रात को पहली बार इसी 6 इंच वाली पाइप के जरिए फंसे श्रमिकों के लिए गर्म खाना भेजा गया है। खिचड़ी 24 बोतलों में पैक करके अंदर भेजी गई है। साथ में सेब, संतरे और नींबू का जूस भी भेजा गया है। ऐसा पहली बार है इन 10 दिनों में जब मजदूरों ने अन्न का दाना खाया है। इससे पहले ड्राई फ्रूट और पीने के नाम पर ओआरएस ही भेजा जा रहा था। लेकिन 6 इंच के पाइप को सफलतापूर्वक मजदूरों तक पहुंचने में कामयाबी मिली है। एजेंसियों ने बीते दिन खाना पहुंचाया और तस्वीरें व वीडियो लेकर यह सुनिश्चित कर लिया है कि अंदर फंसे मजदूर बड़ी दृढ़ता और साहस के साथ डटे हुए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी वीडियो और तस्वीर बाहर आने के बाद साइड पर काम कर रहे अधिकारियों से बातचीत की। उम्मीद जताई जा रही है कि आज से और तेजी से काम किया जाएगा। कुछ मशीन दिल्ली और गुजरात से भी आज उत्तरकाशी पहुंचने की संभावना है. वहीं तीन से चार दिनों में सभी मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया जाएगा।

वही पीएम नरेंद्र मोदी ने सीएम पुष्कर सिंह धामी को फोन कर सिलक्यारा में चल रहे बचाव कार्यों का फीडबैक लिया। उन्होंने कहा, केंद्र द्वारा आवश्यक उपकरण व संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। केंद्र और राज्य की एजेंसियों के परस्पर समन्वय से श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया जाएगा। वहीं सीएम धामी ने उन्हें श्रमिकों से एंडोस्कोपिक कैमरे की मदद से हुई बातचीत एवं उनकी कुशलता की जानकारी भी दी।

Latest Articles