Monday, May 27, 2024

पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

25 सितंबर 1916 को जन्मे पंडित दीन दयाल उपाध्याय एक प्रमुख भारतीय दार्शनिक, राजनीतिक विचारक और सामाजिक कार्यकर्ता थे। उनका जीवन और कार्य लाखों लोगों को प्रेरित करता है।



उपाध्याय भारतीय संस्कृति और आध्यात्मिकता में गहराई से निहित थे, जिसने उनके विश्वदृष्टिकोण को बहुत प्रभावित किया। उन्होंने एकात्म मानववाद के सिद्धांतों की वकालत की, एक ऐसा दर्शन जिसका उद्देश्य जीवन के भौतिक और आध्यात्मिक पहलुओं में सामंजस्य स्थापित करना है। उनका मानना था कि सांस्कृतिक और नैतिक मूल्यों से समझौता किए बिना सामाजिक और आर्थिक प्रगति हासिल की जानी चाहिए।

राजनीतिक क्षेत्र में, उपाध्याय भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पूर्ववर्ती भारतीय जनसंघ के कट्टर समर्थक थे। उन्होंने पार्टी की विचारधारा और नीतियों को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उपाध्याय का “अंत्योदय” का दृष्टिकोण, जिसने समाज के अंतिम व्यक्ति के उत्थान पर जोर दिया, भाजपा के राजनीतिक एजेंडे की आधारशिला बन गया।

उपाध्याय के स्थायी योगदानों में से एक “एकात्म मानववाद” के विचार का प्रतिपादन था। उन्होंने तर्क दिया कि पूंजीवाद और समाजवाद की पश्चिमी विचारधाराएं भारत के लिए अपर्याप्त थीं और उन्होंने एक ऐसा मार्ग प्रस्तावित किया जो आर्थिक आत्मनिर्भरता को सामाजिक न्याय और सांस्कृतिक संरक्षण के साथ जोड़ता था।

उपाध्याय सत्ता के विकेंद्रीकरण के प्रबल समर्थक थे, उन्होंने “एकात्म मानववाद” के विचार को बढ़ावा दिया, जहां शासन यथासंभव लोगों के करीब होना चाहिए। “इंटीग्रल इकोनॉमिक्स” पर उनके विचारों ने हाशिये पर पड़े लोगों की जरूरतों को पूरा करने वाली आर्थिक प्रणालियों के महत्व पर जोर दिया।

दुखद बात यह है कि 1968 में रहस्यमय परिस्थितियों में मृत पाए जाने पर उनका जीवन समाप्त हो गया। उनकी असामयिक मृत्यु अटकलों और विवाद का विषय बनी हुई है।

पंडित दीन दयाल उपाध्याय की विरासत उनके द्वारा प्रतिपादित राजनीतिक दर्शन के माध्यम से कायम है, जिसने भाजपा की नीतियों और भारत के राजनीतिक परिदृश्य को बहुत प्रभावित किया। एकात्म मानववाद, अंत्योदय और विकेंद्रीकरण के उनके विचार नीति निर्माताओं और सामाजिक विचारकों को प्रेरित करते रहते हैं। इस दिन, हम भारत के सामाजिक-राजनीतिक विमर्श में उनके योगदान को याद करते हैं और उनका सम्मान करते हैं, और उनकी शिक्षाएँ देश की प्रगति और विकास के लिए प्रासंगिक बनी हुई हैं।

Latest Articles