Friday, July 19, 2024

महेंद्र कपूर: एक भावपूर्ण आवाज़ जो पीढ़ियों तक गूंजती रहती है

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

10/01/2024




महेंद्र कपूर, जिनका जन्म 9 जनवरी, 1934 को अमृतसर, पंजाब, भारत में हुआ था, भारतीय फिल्म उद्योग के एक प्रसिद्ध पार्श्व गायक थे। एक युवा, महत्वाकांक्षी कलाकार से लेकर बॉलीवुड के कुछ प्रतिष्ठित गीतों की आवाज बनने तक की उनकी यात्रा उनकी प्रतिभा और समर्पण का प्रमाण है।

प्रारंभिक जीवन और संगीत में प्रवेश:

संगीत के प्रति गहरे प्रेम वाले परिवार में पले-बढ़े महेंद्र कपूर को विभिन्न संगीत शैलियों के शुरुआती अनुभव ने गायन के प्रति उनके जुनून को बढ़ाया। उनकी प्रतिभा को कम उम्र में ही पहचान लिया गया, जिससे उन्हें शास्त्रीय संगीत में औपचारिक प्रशिक्षण लेना पड़ा। स्थानीय प्रतियोगिताओं से लेकर बॉलीवुड पार्श्व गायन के भव्य मंच तक की यात्रा ने उनके शानदार करियर की शुरुआत की।

निर्णायक और बॉलीवुड डेब्यू:

महेंद्र कपूर को सफलता तब मिली जब उन्होंने महान पार्श्व गायिका लता मंगेशकर द्वारा जज की गई एक अखिल भारतीय गायन प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार जीता। इस जीत ने उनके लिए फिल्म इंडस्ट्री के दरवाजे खोल दिये। पार्श्व गायन में उनकी शुरुआत फिल्म “मिस्टर एक्स इन बॉम्बे” (1964) के गीत “मेरे मेहबूब कयामत होगी” से हुई। कपूर की भावनात्मक और बहुमुखी आवाज़ को प्रदर्शित करते हुए यह गाना तुरंत हिट हो गया।

प्रतिष्ठित गीत और बहुमुखी प्रतिभा

महेंद्र कपूर की विशिष्ट आवाज और गहरी भावनाओं को व्यक्त करने की उनकी क्षमता ने उन्हें विभिन्न शैलियों में पार्श्व गायन के लिए पसंदीदा विकल्प बना दिया। उनके कुछ सबसे यादगार गीतों में शामिल हैं:

1. “चलो एक बार फिर से” – “गुमराह” (1963)
2. “नीले गगन के तले” – “हमराज़” (1967)
3. “मेरे देश की धरती” – “उपकार” (1967)
4. “ये जो चिलमन है” – “महबूब की मेहंदी” (1971)
5. “चलो रे डोली उठाओ” – “जानवर” (1965)

रवि, कल्याणजी-आनंदजी और शंकर जयकिशन जैसे संगीत निर्देशकों के साथ उनके सहयोग के परिणामस्वरूप चार्ट-टॉपिंग हिट हुईं जो आज भी दर्शकों के बीच गूंजती रहती हैं।

पुरस्कार और मान्यता:

महेंद्र कपूर को संगीत की दुनिया में उनके योगदान के लिए कई पुरस्कार मिले। उन्होंने फिल्म “उपकार” के “मेरे देश की धरती” गीत की भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए सर्वश्रेष्ठ पुरुष पार्श्वगायक का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता। कला के प्रति उनकी प्रतिबद्धता ने उन्हें व्यापक प्रशंसा और एक समर्पित प्रशंसक आधार अर्जित किया।

परोपकार और बाद के वर्ष:
अपने संगीत प्रयासों के अलावा, महेंद्र कपूर विभिन्न परोपकारी गतिविधियों में भी शामिल थे। उन्होंने भारतीय संगीत उद्योग के विकास में योगदान देते हुए, महत्वाकांक्षी संगीतकारों का मार्गदर्शन और समर्थन भी किया।

महेंद्र कपूर 2000 के दशक तक बॉलीवुड में अपनी आवाज देते रहे। भारतीय संगीत पर उनके स्थायी प्रभाव को न केवल उनके कई पुरस्कारों के माध्यम से, बल्कि उनके गीतों की शाश्वत गुणवत्ता के माध्यम से भी पहचाना जाता है।


27 सितंबर 2008 को महेंद्र कपूर का निधन हो गया, वे अपने पीछे एक समृद्ध संगीत विरासत छोड़ गए जो नई पीढ़ियों को प्रेरित करती रहती है। भावनाओं और गहराई से भरी उनकी आवाज़, बॉलीवुड संगीत के स्वर्ण युग का एक अभिन्न अंग बनी हुई है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि महेंद्र कपूर की धुनें आने वाली पीढ़ियों तक याद रखी जाएंगी।

Latest Articles