Tuesday, April 23, 2024

न्यूजीलैंड के बल्लेबाज रॉस टेलर की किताब में द्रविड़ का जिक्र, बताया फैंस से जुड़ा बेहद रोचक किस्सा

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

नई दिल्ली. भारत में क्रिकेट और क्रिकेटरों का क्रेज किसी से छिपा नहीं है. भारतीय क्रिकेटरों की लोकप्रियता देश में कुछ ज्यादा ही है. क्रिकेटरों की एक झलक पाने और उनसे मिलने को थोड़ी ही देर में फैन्स का तांता लग जाता है. हालांकि, ऐसा न्यूजीलैंड में नहीं है. ऐसे में न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान रॉस टेलर को आईपीएल 2011 के दौरान एक भारतीय क्रिकेटर की लोकप्रियता और फैन फॉलोइंग को देखने का अनुभव मिला.

आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के साथ तीन सीजन बिताने के बाद रॉस टेलर राजस्थान रॉयल्स के साथ जुड़े. वह राजस्थान रॉयल्स के साथ 2011 में एक साल के लिए ही रहे. इस दौरान उन्हें भारत के लीजेंड खिलाड़ी राहुल द्रविड़ के साथ वक्त बिताने का मौका मिला. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के एक दशक बाद भी द्रविड़ भारत की सबसे लोकप्रिय हस्तियों में से एक हैं. 2011 में वह एक सक्रिय खिलाड़ी थे और उनके प्रदर्शन को फैन्स बारीकी से देखते थे.

रॉस टेलर ने अपनी किताब ‘रॉस टेलर: ब्लैक एंड व्हाइट’ में राहुल द्रविड़ की लोकप्रियता से जुड़े एक किस्से का जिक्र किया है. न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ने खुलासा किया है कि किस तरह राहुल द्रविड़ के साथ बाहर जाकर कॉफी पीना कितना महंगा पड़ गया था. मॉल में राहुल द्रविड़ के साथ कॉफी पीने गए रॉस टेलर फैन्स की भीड़ से घिर गए थे.

पूर्व क्रिकेटर के मुताबिक, इसके बाद सिक्योरिटी को उन्हें बाहर निकालना पड़ा था और उसके बाद वह हमेशा होटल में ही द्रविड़ के साथ कॉफी पीते थे. टेलर ने किताब में लिखा है, ”दक्षिण अफ्रीका के ऑफ स्पिनर जोहान बोथा और मैं जयपुर में नाश्ते के समय राहुल द्रविड़ के बगल में बैठे थे. हमने उनसे पूछा कि क्या वह कॉफी के लिए जाना चाहते हैं. वह नहीं जाना चाहते थे, लेकिन हमने उनका हाथ मरोड़ दिया. हमें पांच मंजिला मॉल के लिए कैब मिली. हमने अपने साथ कोई सुरक्षा नहीं ली थी, जो गलत था.

दो मिनट के भीतर मॉल खचाखच भर गया ( कम से कम 4000 लोग थे) और हमें निकालने के लिए हमें मॉल की सुरक्षा लेनी पड़ी.”

उन्होंने कहा, ”मुझे यकीन है कि राहुल इस बात को पहले से जानते थे, लेकिन विनम्रता में वह हमें मना नहीं पाए. बोट्स” और मुझे होटल वापस जाते समय बहुत बुरा महसूस हुआ. राहुल ने इसे सामान्य रूप से लिया. उन्होंने कहा कि हम शायद मुंबई जैसे बड़े शहर में ठीक रहते. लेकिन छोटे शहरों में लोग अक्सर बड़े-नाम वाले क्रिकेटरों को नहीं देखते हैं. जयपुर की आबादी करीब चार लाख है. उसके बाद मैंने होटल में ही हमेशा द्रविड़ के साथ कॉफी थी.”

रॉस टेलर को आईपीएल 2011 के बाद राजस्थान रॉयल्स ने रिलीज कर दिया था. वह 2014 तक अन्य फ्रेंचाइजी के लिए खेलते रहे. द्रविड़ का राजस्थान रॉयल्स के साथ एक लंबा जुड़ाव था और वह चैंपियंस लीग 2013 तक उनके लिए खेले. वह अगले 2 वर्षों के लिए राजस्थान रॉयल्स के कोचिंग स्टाफ में शामिल हो गए.

 

Latest Articles