Tuesday, April 23, 2024

विवादों में रहे अजय मिश्रा टेनी का विवादस्पद बयान, राकेश टिकैत को बताया दो कौड़ी का आदमी

- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी ने किसान नेता राकेश टिकैत पर विवादास्पद बयान दिया है. अजय मिश्रा टेनी वही हैं, जिनका बेटा आशीष मिश्रा लखीमपुर खीरी में किसानों को कार से कुचलने का आरोपी है. वायरल हो रहे वीडियो में अजय मिश्रा टेनी ने टिकैत को दौ कौड़ी का आदमी बताया है. अजय मिश्रा टेनी पीएम नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में गृह राज्य मंत्री हैं. अजय मिश्रा टेनी लखीमपुर खीरी में अपने समर्थकों को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने संबोधन में खुद को ‘दुनिया से लड़ने और कभी न हारने वाला’ बताया.

कुत्ते भौंकते रहते हैं: अजय मिश्रा टेनी

उन्होंने कहा, ‘मीडिया, तथाकथित किसान, गैर-राष्ट्रवादी राजनीतिक दल या कनाडा या पाकिस्तान में बैठे आतंकवादी, मैंने कभी नहीं सोचा था कि आप मुझे उनकी तरह लोकप्रिय बना देंगे. यह आपकी ताकत है. आपकी वजह से ये लोग समझ नहीं पा रहे हैं कि मुझे कैसे हराएं. हाथी अपने पथ पर चलता रहता है, कुत्ते भौंकते रहते हैं. उन्होंने कहा कि मान लो मैं कार से लखनऊ जा रहा हूं और गाड़ी की स्पीड अच्छी खासी है. कुत्ते भौंकेंगे. वो या तो सड़क के किनारे भौंकेंगे या फिर कार के पीछे भागेंगे. ये उनकी प्रकृति है. मैं उस बारे में कुछ नहीं कहूंगा. हमारा वैसा बर्ताव नहीं है. चीजें खुद ही खुल जाएंगी और मैं सभी को जवाब दूंगा. आपके समर्थन के कारण मैं बहुत आत्मविश्वासी हूं.

‘टिकैत की राजनीति ऐसे ही चलती है’

आगे उन्होंने कहा, ‘इस दुनिया में कोई आपको निराश नहीं कर सकता. चाहे किसने ही राकेश टिकैत आ जाएं. मैं उनको अच्छे से जानता हूं, दो कौड़ी का आदमी है. उन्होंने दो चुनाव लड़े और जमानत जब्त करा बैठे. अगर ऐसा शख्स विरोध-प्रदर्शन करेगा तो मैं जवाब नहीं दूंगा. अगर उनकी राजनीति इसी से चलती है तो चलने दीजिए. मैंने कभी अपनी जिंदगी में गलत नहीं किया है.’

अजय मिश्रा टेनी का ये बयान राकेश टिकैत के लखीमपुर खीरी में 72 घंटे के किसान आंदोलन के ऐलान के बाद आया है. टिकैत ने टेनी को मंत्री पद से हटाने की मांग की है. भारी विरोध के बावजूद अब तक अजय मिश्रा टेनी को केंद्र सरकार ने मंत्री पद से नहीं हटाया है. वह यूपी चुनाव के दौरान बीजेपी के कैंपेन का भी हिस्सा थे. उनके बेटे आशीष मिश्रा को कैंपेन के लिए बेल मिल गई थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने अप्रैल में रद्द कर दिया था.

Latest Articles